गुफ़्तगु – The Monologues…

चाय की उन चुस्कियों में जितनी खुशियां बटोरे,

लाख कोशिश बाद भी अब सारे घूँट फीके रहे

Advertisements